अब छत्तीसगढ़ में किसानों की सरकार: भूपेश बघेल

सरायपाली। 18 गढ़ उराँव समाज के 38वें महासम्मेलन व सम्मान समारोह में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का आज ग्राम आंवलाचक्का आगमन हुआ. दोपहर 2 बजे हेलीकॉप्टर से वे पहुँचे. उनके आगमन पर कार्यकर्ताओं एवं उराँव सामाजिकजनों के द्वारा भव्य स्वागत करते हुए घण्ट पार्टी एवं गाजे-बाजे तथा महिलाओं के द्वारा फूल वर्षा करते हुए मुख्यमंत्री को हेलीपैड से मंच पहुँचाया गया. कार्यक्रम को संबोधित करते हुए श्री बघेल ने कहा कि पूर्व में छत्तीसगढ़ में कलेक्टर व डॉक्टर की सरकार थी, लेकिन अब यहाँ किसानों की सरकार है. किसानों व गरीब तबके के लोगों को हर कार्य में न्याय मिलेगा व उनके सुख-दुख में यह सरकार हमेशा सहभागी रहेगी. इस दौरान मंच पर विधायक देवेन्द्र बहादुर सिंह, किस्मतलाल नंद, द्वारकाधीश यादव, पूर्व विधायक अग्नि चन्द्राकर, कांग्रेस जिलाध्यक्ष आलोक चन्द्राकर, कलेक्टर सुनील कुमार जैन, पुलिस अधीक्षक संतोष सिंह आदि मंचासीन थे.

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि सरकार बनते ही किसानों का कृषि ऋण माफ, 2500 रू में धान खरीदी की गई. अब 1 मार्च से बिजली बिल हाफ के अलावा 15 हजार शिक्षकों की भर्ती की भी बहुत जल्द की जाएगी. किसानों क ा जिला सहकारी बैंक व छत्तीसगढ़ ग्रामीण बैंक का 6100 करोड़ का ऋण माफ किया गया है. केसीसी ऋण के तहत 4 हजार करोड़ कृषि ऋण माफ होगा जिसे बजट में शामिल किया गया है. उन्होंने कहा कि जिला सहकारी बैंक एवं छत्तीसगढ़ ग्रामीण बैंक की तरह ही अन्य राष्ट्रीयकृत बैंकों का भी कर्ज माफ होगा. छत्तीसगढ़ के इतिहास में सबसे बड़े बहुमत से बड़ी जीत दिलाने व महासमुंद जिले में 100 प्रतिशत सीट आने पर क्षेत्र की जनता को उन्होंने धन्यवाद दिया. वहीं भाजपा को आड़े हाथों लेते हुए उन्होंने कहा कि 15 वर्ष सरकार चलाने के बाद 15 सीट पाने के लिए भी वे तरस गए. यदि त्रिकोणीय मुकाबला नहीं होता तो वे मात्र 3 सीट में ही सिमट कर रह जाते.

श्री बघेल ने कहा कि व्यापारी भी नोटबंदी व जीएसटी से तंग आ गए थे, लेकिन बोनस व कृषि ऋण माफी के कारण विगत दिनों खूब खरीदी बिक्री हुआ है, जिससे व्यवसायियों को भी इसका लाभ मिला है. क्षेत्र की जनता से अपील करते हुए उन्होंने कहा कि किसी भी एक फसल का उत्पादन करें, जिससे यहाँ उसका प्लाँट लगाया जा सके. वहीं छत्तीसगढ़ 4 चिन्हारी योजना नरवा, गरवा, घुरवा, बारी को भी गाँव के अंतिम छोर तक पहुँचाकर लाभ दिलवाने की भी बात उन्होंने कही.।

जाति प्रमाण पत्र की समस्या का होगा जल्द निराकरण

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने अनुसूचित जाति के कार्यक्रम में सम्मिलित होने के लिए प्रसन्नता जाहिर की एवं कहा कि उन्हेें जाति प्रमाण पत्र बनवाने में जो समस्या आ रही है, उसका बहुत जल्द ही निवारण करवाया जाएगा. जिससे सभी को उनका हक एवं लाभ मिलेगा. वर्षों पुरानी इस मांग के पूर्ण होने से समाज के हजारों नवयुवक बेरोजगारों को भी रोजगार का अवसर प्राप्त होगा. इस दौरान मुख्यमंत्री ने सरायपाली विधायक किस्मतलाल नंद क ी पीठ थपथपाते हुए रिकार्ड 53 हजार मतों से जीत दर्ज करने के लिए क्षेत्रवासियों को धन्यवाद दिया।

विधायक ने रखी महाविद्यालय खोलने की मांग 

सरायपाली विधायक किस्मतलाल नंद ने भी सभा को संबोधित करते हुए कहा कि 15 वर्ष की भाजपा के शासन के बाद पहली बार एक किसान पुत्र मुख्यमंत्री बना है, जो बहुत ही गर्व की बात है. उन्होंने भंवरपुर केदुवाँ में महाविद्यालय खोलने की मांग, व बोड़ेसरा से बड़ेसाजापाली पहुँच मार्ग बनवाने की मांग मुख्यमंत्री के समक्ष रखी. जिसपर मुख्यमंत्री द्वारा आगामी बजट में इस मांग को भी शामिल करने का आश्वासन दिया।

पाली विधायक मोहितराम केरकेट्टा ने कहा कि कांग्रेस ने जो दो माह के अंदर कई वादे एवं कार्य किए हैं, वह विगत 15 वर्षों से रूका हुआ था. यह क्षेत्र की जनता के लिए बहुत बड़ा फैसला है कि 5 डिस्मिल तक की जमीन की रजिस्ट्री सरलता से हो रही है. जशपुर विधायक विनय भगत ने कहा कि जाति प्रमाण पत्र बनवाने में समाज के लोगों को जो समस्या आ रही है, उसका बहुत जल्द निराकरण करवाने की मांग उनके द्वारा समाज की ओर से मुख्यमंत्री के समक्ष रखी गई, जिस पर मुख्यमंत्री ने समस्या का शीघ्र निराकरण करने की बात कही. सभा को उसाँव समाज के सामाजिक पदाधिकारियों ने भी संबोधित किया.

इस अवसर पर कांग्रेस ब्लॉक अध्यक्ष ग्रामीण हेमसागर पटेल, शहर अध्यक्ष अमृत पटेल, इसराईल खान, बलराम भोई, विश्वजीत बेहेरा, टिकेश्वर पटेल, घुरऊ नायक, अब्दुल हलीम लखानी, हरदीप सिंह रैना, नरेन्द्र साहू, रामनारायण आदित्य, श्रीमती सीता पटेल, श्रीमती सरोजिनी पाणिग्राही, मोहन पटेल, शेख रियाज, दीपक शर्मा, धनपति प्रधान, जफर उल्ला खान, केशव चौधरी, टिकेश्वर चौधरी, लीलाकांत पटेल, निरंजन भोई, महेन्द्र नायक, नरेन्द्र राणा, संजय चौधरी, कन्हैया पटेल सहित बसना से मंजीत सलूजा, इस्तियाक खैरानी, तौकीर दानी, तनवीर सईद, खालिद दानी, महासमुंद से भागीरथी चन्द्राकर, पिथौरा से अरविंदर छाबड़ा, संजय सिन्हा, नरेन्द्र सेन तथा उराँव समाज के वरिष्ठ सामाजिक जन मनोहर खाखा, लच्छी राम उराँव, परतराम भगत, रतनलाल भगत, झामलाल उराँव, सुरेश उराँव, जागेश्वर उराँव, सीताराम उराँव, तीजराम उराँव, जोहीलाल उराँव, विदेशी, सुनाऊराम, सुरोतीलाल, दुर्योधन, किशोर, सीताराम, शिवलाल, श्यामलाल, एतबारू एक्का, ब्रम्हाओम केरकेट्टा, गणेशराम, शंकर तिग्गा, जगदीश तिर्की सहित कई सामाजिक जन व बड़ी संख्या में कांग्रेसजन मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *