मधु बाबू के पुण्यतिथि पर समाज ने लिया संकल्प

भिलाई। उडिय़ा भाषा को मान्यता एव औडिशा राज्य के गठन में महती भूमिका अदा करने वाले स्व.मधुसूदन दास की 85 वीं पुण्यतिथि पर श्रद्वांजलि अर्पित की गई। उत्कल गौरव मधुसूदन दास की पुण्यतिथि तभी सार्थक होगी जब उडिय़ा समाज अपने संकल्पों पर प्रतिबद्व रहेगी। नशाखोरी पर नियंत्रण, शिक्षा पर जोर व स्व व्यवसाय को सुदृढ़ करने जैसे तीन महत्वपूर्ण संकल्पों को लेना होगा, जिससे समाज का दशा व दिशा अवश्य सुधरेगा। 4 फ रवरी को प्रात: 8 बजे फ ौजीनगर में अखिल भारतीय उडिय़ा समाज द्वारा आयोजित मधुसूदन दास के 85 पुण्यतिथि पर अ.भा.उडिय़ा समाज के कार्यकारी अध्यक्ष व प्रसिद्ध कहानीकार राजेन्द्र नाग ने अपने अध्यक्षीय भाषण में समाज को संकल्पि कर कहा।
सभा को रामदरबार के पंडित मंगलूराम सिक्का, किशोर ताण्डी, शरत कुमार, किशोर सोना, चेतन नायक, राम कुमार, रमेश सागर आकाश सिंह, आदि ने भी समाज के लोंगो को अपनी जिम्मेदारी को समझने की आवश्यकता पर बल देते हुए संबोधित किया। कार्यक्रम का संचालन व प्रतिवेदन अखिल भारतीय उडिय़ा समाज के अध्यक्ष केदारनाथ महानंद एवं आभार प्रदर्शन रमेश सागर ने किया। इस अवसर पर विजय छाती, बबलू नाग, उमाशंकर, आलोक जाल, धरम हरिपाल सहित सैकड़ों लोग उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *