रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से कल महानदी भवन (मंत्रालय) में राष्ट्रीय रक्षा महाविद्यालय के प्रशिक्षार्थियों के प्रतिनिधि मंडल ने सौजन्य मुलाकात की। मुख्यमंत्री ने उन्हें सम्बोधित करते हुए कहा कि राज्य सरकार का उद्देश्य लोगों जीवन स्तर में बदलाव लाना है। इसके लिए वनाधिकार पट्टों से संबधित प्रकरणों का समुचित निराकरण, 2500 रूपए प्रति क्ंिवटल की दर से धान की खरीदी सहित अन्य कदम उठाये जा रहे है। प्रतिनिधि मंडल ने मुख्यमंत्री को प्रतीक चिन्ह भी भेंट की। इस अवसर पर मुख्य सचिव सुनील कुजूर उपस्थित थे।

पखांजूर। पखांजूर लगातार कोयलीबेड़ा ब्लाक  के अंतर्गत ग्राम पंचायतो में भ्रस्टाचार का मामला उजागर हो रहा है ,चाहे वो देवपुर पंचायत ,या द्वारिकापुर पंचायत हो या फिर बिकास पल्ली पंचायत हो । ताजा मामला दुर्गापुर में  मनरेगा योजना के राशि गवन के मामले में पंचायत के सभी ग्रामीणों ने विधायक अनूप नाग को किया लिखित शिकायत।

दरअसल दुर्गापुर पंचायत में मनरेगा के अंतर्गत किए गए  मजदूरों का मजदूरी मजदूरों को भुगतना न करके सरपंच सचिव पोस्ट मास्टर से साठ गांठ कर करोड़ों रुपए फर्जी दस्तावेज तैयार कर गबन कर लिया है।पहले भी दुर्गापुर पंचायत का मनरेगा योजना के मजदूरी गबन का मामला सुर्खियों में थी मगर साठ गांठ बांध कर मामले को दवा दिया गया था।नव निर्वाचित विधायक अनूप नाग का निष्पक्ष रवैया को देखते हुए ग्रामीणों में आशा का किरण जागा और ग्रामीणों ने विधायक अनूप नाग को लिखित शिकायत की।

शिकायत में स्पष्ट रूप से पंचायत के सरपंच सचिव एवं पोस्टमास्टर पर आरोप लगाया है कि मनरेगा योजना में डाबरी  निर्माण, बकरी सेड, गाय सेड, मिट्टी मुरम सड़क में हुए कार्य के मस्टररोल में मजदूरों का नाम तो दर्ज हैं ,मगर मजदूरी पैसा किसी भी मजदूरों को नही दिया गया। पोस्टमास्टर के साथ सरपंच सचिव साठ गाठ कर फर्जी हस्ताक्षर करके करोड़ों रुपए की मजदूरी का राशि बंदरबांट कर लिया गया है।

मामले की जानकारी मिलते ही क्षेत्र के विधायक अनूप नाग ने कोयलीबेड़ा जनपद पंचायत के सी ई ओ को तुरंत मामले का निष्पक्ष जांच कर जल्द से जल्द दोषियों पर कड़ी कार्यवाही करने का एवं मजदूरों को मजदूरी भुगतान करने का आदेश दिया है। लेक़िन जनप्रतिनिधियो का आदेश अधिकारी कहा तक निर्वाह करते है। ये तो वक्त ही बतलाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *