एशियाड में गोल्ड जीतकर भी तेजिंदर नहीं पूरा कर पाये खुद का अरमान……मैडल लेकर घर पहुंचने से कुछ ही देर पहले हो गयी पिता की मौत

नयी दिल्ली। …एशियाड में तेजिंदर पाल ने गोल्ड जीतकर देशवासियों के अरमान को तो पूरा कर दिया, लेकिन अपने पिता के हाथों में गोल्ड मैडल सौंपने का तेजिंदर का खुद का सपना पूरा नहीं हो पाया। कैंसर से जूझ रहे तेजिंदर के पिता की सोमवार की शाम मौत हो गयी। विडंबना देखिये, जिस वक्त पिता की मौत की खबर तेजिंदर को मिली, उस वक्त वो एशियाई खेलों से मैडल लेकर घर लौट ही रहे थे, लेकिन कुछ ही फासले से उनका वो सपना टूट गया।
देश के इस शानदार शॉट पुटर तेजिंदर पाल सिंह ने इंडोनेशिया के जकार्ता और पालेमबांग में संपन्न 18वें एशियाई खेल में गोल्ड मेडल जीता था। अपने जीवन का सबसे बड़ा उपहार लेकर भारत लौटे तूर सबसे पहले अपने बीमार पिता से मिलना चाहते थे, जो दो साल से कैंसर से ग्रसित हैं। तूर के पिता ने अपने बेटे के लिए कई समझौते किए हैं। मगर जब तूर दिल्ली से पंजाब के मोगा की तरफ सोमवार की शाम निकले, तो उन्हें एक ऐसी जानकारी मिली, जिससे वह बिखर गए। तूर के पिता करम सिंह का निधन हो गया है। तूर को पता था कि उनके पिता की हालत गंभीर है। इसलिए उन्होंने दिल्ली उतरते ही सड़क के रास्ते मोगा जाने का फैसला किया। मगर वह अपने गृहनगर से कुछ ही दूर थे कि उन्हें यह दर्दनाक खबर मिली। तूर अपने पिता की आखिरी ख्वाहिश पूरी नहीं कर सके। उनके पिता अपने बेटे द्वारा देश के लिए जीते गोल्ड मेडल को अपने हाथ में उठाना चाहते थे। मोगा के 23 वर्षीय तेजिंदर ने पांचवें प्रयास में 20.75 मीटर दूर गोला फेंककर एशियाई खेलों के नए रिकॉर्ड के साथ पहला स्थान हासिल किया। इस दौरान उन्होंने राष्ट्रीय रिकॉर्ड भी तोड़ा जो ओम प्रकाश करहाना के नाम था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *