लाल किले से प्रधानमंत्री मोदी ने दिया नौ चीज़ों के लिए ‘फॉर ऑल’ का नारा

नई दिल्ली| स्वतंत्रता के 72वें साल के जश्न में डूबे देश के नाम प्रधानमंत्री के भाषण में चार साल का हिसाब, भविष्य के भारत , वैश्विक पटल पर भारत जैसी कई बातों का जिक्र था. भविष्य का भारत कैसा हो और मौजूदा वक्त में भारत की रफ्तार के बारे में बात करते हुए प्रधानमंत्री ने बताया कि इन चार सालों में हुए काम की तुलना 2013 से की जाए तो हमने वो काम कर दिया जो पिछली रफ्तार से करने पर दशकों लग जाते. लाल किले की प्रचीर से प्रधानमंत्री ने देश के लिए कई अहम ऐलान किए और देश को ‘रिफॉर्म-परफॉर्म और ट्रांसफॉर्म’ की तर्ज पर ‘फॉर ऑल’ का नारा दिया.

क्या है पीएम का ‘फॉर ऑल’ का नारा
मंच से प्रधानमंत्री मोदी ने बताया, ”देश का संविधान हर गरीब-अमीर और पिछड़े, दलित आदिवासी को सम्मान से जीने की बात कहता है. इस देश में हम सबका साथ और सबका विकास चाहते हैं.  हर भारतीय के पास अपना घर हो- हाउसिंग फॉर ऑल, हर भारतीय के घर में बिजली कनेक्शन हो- पॉवर फॉर ऑल, हर भारतीय की रसोई धुआं मुक्त हो- क्लीन कुकिंग फॉर ऑल, हर भारतीय के घर में जरूरत के मुताबिक जल पहुंचे- वॉटर फॉर ऑल. हर भारतीय इंटरनेट की दुनिया से जुड़ सके- कनेक्टिविटी फॉर ऑल. हर भारतीय के घर में शौचालय हो- सैनिटेशन फॉर ऑल, हर भारतीय अपने मनचाहे क्षेत्र में कुशलता हासिल कर सके- स्किल फॉर ऑल, हर भारतीय को अच्छी औऱ सस्ती स्वास्थ्य सेवा सुलभ हो- हेल्थ फॉर ऑल, हर भारतीय को बीमा का सुरक्षा कवच मिले. इंश्योरेंस फॉर ऑल.”

सेना में महिलाओं को स्थाई नौकरी
लाल किले से प्रधानमंत्री ने सशस्त्र बलों में महिलाओं को स्थायी कमीशन देने का भी एलान किया. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ”मैं आज इस मंच से मेरी कुछ बहादुर बेटियों को खुशखबरी देना चाहता हूं. भारतीय सशक्त सेना में शॉर्ट सर्विस कमीशन के जरिए नियुक्त महिला अधिकारियों को पुरुष समकक्ष अधिकारियों की तरह पारदर्शी प्रक्रिया द्वारा स्थायी कमीशन देने की घोषणा करता हूं.”

25 सितंबर से जन आरोग्य अभियान की शुरुआत
प्रधानमंत्री ने लाल किले से आयुष्मान योजना का एलान किया, उन्होंने कहा कि 25 सितंबर को पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती आयोग्य अभियान की शुरुआत की जाएगी. प्रधानमंत्री ने कहा, “आयुष्मान योजना स्कीम में पहले 10 करोड़ गरीब परिवारों को शामिल किया जाएगा. इसके बाद उच्च मध्यम वर्ग और मध्यमवर्ग का भी लाभ मिलेगा. पांच लाख रुपए सालाना इलाज के खर्च की सुविधा हम देने वाले हैं. किसी भी व्यक्ति को यह सुविधा पाने में दिक्कत ना हो, इसलिए टेक्नोलॉजी की भूमिका महत्वपूर्ण है. टेस्टिंग शुरू हो रही है. योजना को फुलप्रूफ बनाने की कोशिश हो रही है. 25 सितंबर को पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर यह अभियान शुरू कर दिया जाएगा.”

अंतरिक्ष में भारतीय
प्रधानमंत्री मोदी ने मंगलयान और अंतरिक्ष क्षेत्र की अन्य उपलब्धियों का जिक्र करते हुए देश के वैज्ञानिकों की तारीफ की. उन्होंने कहा, ”कौन इस बात पर आश्चर्य नहीं करेगा कि हमारे वैज्ञानिकों ने एक साथ सौ सेटेलाइट लॉन्च किए? आज लाल किले की प्राचीर से मैं देशवासियों को खुशखबरी सुनाना चाहता हूं. हमारा देश अंतरिक्ष की दुनिया में प्रगति करता रहा है. हमने सपना देखा है कि 2022 में आजादी के 75 साल पूरे होने के मौके पर या उससे पहले मां भारत की कोई संतान, चाहे बेटा हो या बेटी, वह अंतरिक्ष में जाएगा. हाथ में तिरंगा लेकर जाएगा. आजादी के 75 साल से पहले इस सपने को पूरा करना है. भारत के वैज्ञानिकों ने मंगलयान से लेकर अब तक ताकत का जो परिचय कराया है. जब हमारा यान हिंदुस्तानी लेकर जाएगा, तब अंतरिक्ष में मानव को पहुंचाने वाले विश्व के चौथे देश बन जाएंगे.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *